Contact Information

Theodore Lowe, Ap #867-859
Sit Rd, Azusa New York

We're Available 24/ 7. Call Now.

Past life regression - क्या हम अपने पिछले जन्म को जान सकते है?

Past life regression therapy के बारे जानते है।  

जातिस्मरण Past life regression, पिछले जन्म में क्या हुआ था। इसके बारे में जानने को तो हम सभी इछुक होते है। पिछले जन्म में हमारी मृत्यु कैसे हुई। जा हम पिछले जन्म में किस घर में या कोन से स्थान में रहते थे।

displayAds

यह सब बाते हमारे दिमाग में कभी न कभी तो जरूर आई होगी। पर क्या आप सच में पिछले जन्म Past life को जानने के इछुक हो।

past life regression therapy

पिछले जन्म को जानने से पहले सबसे पहले हमे अपने आप को जानना पड़ेगा। आप कहोगे की में तो अपने आप को जानता ही हु। जेसे की मेरा शरीर मोटा है। या पतला है। मेरी आँखे ऐसी है।

अब और कितना जानू। पर इस बात पे में आपको बतादु की अपने आप को जानना मतलब अपने बाहरी शरीर को नही जानना। अपने अंदर के शरीर को पहचानना है। की में कोन हु। निरंतर इसका समरण करना है। अगर आपको गुस्सा आये तो पता करना है।

की बह गुस्सा कहा से उतपन हो रहा है। मेरे शरीर को कोन सा हिस्सा है। जो की मेरे शरीर के भावो को उतपन करने में सहाई होता है। शुरू शुरू में तो आपको बहुत मुश्किल लगेगा। की यह क्या हो रहा है।

शुरुवाती दोर में आपका मन होर भी जादा विचलित होगा। पर थोड़े समय की बात है। उसके बाद वो स्थिर होने लगेगा।

displayAds

एक बात, अपने मन में याद रखना की आप जितना भीतर जाओगे। उतना ही बाहरी दुनिया में स्थिर होते जाओगे। अब आप जितना अपने शरीर की गतिविधियों पर नजर रखेगे। उतना ही आपका मन शांत और स्थिर होता जायेगा।

जिससे आपके पास अपने आप को स्थिर और संतुलित करने की शक्ति आ जायेगी। उस शक्ति का प्रयोग अपने दिन में होने वाली गतिविधियों की और लगाना है। मतलब की आपको अपने पुरे दिन की गतिविधियों को याद करना है।

past life regression

यह काम आप सोने से पहले भी कर सकते हो। सोने से पहले आपने उस दिन क्या किया। इसको एक प्रकार की फ़िल्म के रूप में देखना है। परंतु इसमें जो खास बात है। आपको इस फ़िल्म को उल्टा देखना है।

जैसे की अगर आप रात को अपनी गतिविधियों का analyse करते हो। तो आपको सबसे पहले रात की बातो को देखना है। की अपने सबसे पहले खाना खाया। बाद में आप office से काम कर घर को आये।

displayAds

फिर शाम को क्या किया आदि। सबसे पहले आपको एक दिन के बारे में सोचना है। जब आपकी एक दिन में एकाग्रता की शक्ति बढ़ती जायेगी। तब आप अपनी जिंदगी के पिछले पल में जाने लगोगे। ऐसे करते करते आप जिंदगी के शुरुवाती पलो तक पहुंच जाओगे।

फिर इस जिंदगी की यादो के अंतिम पल तक आप चले जाओगे। जो की आपके जन्म के समय के पल है। जब आप अपनी माँ के पेट में थे। और उसके बाद आपको सबसे पहले अपने पिछले जन्म का बृद्ध सवरूप दिखेगा।

ऐसा हो पायेगा। यह सोचना भी मुश्किल लगता है।

पर मेरे दोस्तों। हमारा जो दिमाग है। बह कभी भी कुछ नही भूलता। हमारी जिंदगी में जो कुछ भी हुआ है। वो इसमें स्टोर हो रहा है। बस आपको तो उस स्टोर रूम के तालो को खोलना है। बाकि सभी काम तो अपने आप हो जायेगे।

तो ये था Interesting facts hindi में। आपको कैसा लगा।



SHARE:

Leave A Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

समुंद्री डाकू आँखों पे पट्टी क्यो बांधते थे।

जिंदगी में सफल बनने के लिए साक्षी भाव को जानना जरूरी है।